सेटेलाइट अस्पताल गंभीर रूप से बीमार

56

डीएनआर रिपोर्टर. बीकानेर

पीबीएम की ओर से सेटेलाइट हॉस्पीटल को रोजाना सर्जरी, ऑर्थो, गायनिक, मेडिकल चारों यूनिट में जिला अस्पताल को चिकित्सक देने के लिए अधिकृत किए लम्बा अर्सा बीत जाने के बावजूद अभी तक यह व्यवस्था नहीं होने के कारण सेटेलाइट अस्पताल में उक्त यूनिट काम नहीं कर पा रही है। जिसको लेकर मरीजों व उनके परिजनों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसको लेकर इस चिकित्सालय में इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीजों व उनके परिजनों में खासा रोष व्याप्त है।
पर्याप्त संसाधन, फिर भी डिलवरी नहीं
यही नहीं सेटेलाइट अस्पताल में हर रोज 15 डिलवरी करवाने के पर्याप्त संसाधन भी उपलब्ध है। किंतु महिला चिकित्सक नहीं होने की वजह से इस चिकित्सालय में रोजाना पांच भी डिलवरी नहीं हो पा रही है।
सोनोग्राफी मशीन है, टेक्निशियन नहीं
अस्पताल में कहने को तो यहां पहुंचने वाले मरीजों तथा गर्भवती महिलाओं की सुविधा के लिए सोनोग्राफी मशीन तो लगी हुई है। किंतु टेक्निशियन के अभाव में यह मशीन काम नहीं कर पा रही है। कक्ष में मौजूद सोनोग्राफी मशीन धूल फांक रही है। यहां तक ही मरीजों की समस्या नहीं है। यहां पहुंचने वाले मरीजों को एक्स-रे तक की सुविधा नहीं मिल पा रही है। जिसका मुख्य कारण एक्स-रे फिल्म का उपलब्ध नहीं होना बताया जा रहा है।
समस्या गंभीर, फिर भी मिला सिर्फ आश्वासन
सेटेलाइट अस्पताल में चिकित्सा सुविधा संबंधी अव्यवस्था को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव राजकुमार किराडू के नेतृत्व में एक शिष्ट मंडल सोमवार को जिला अस्पताल पहुंचा। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य से निवेदन कर एसएस कुमार को मौके पर बुलाया। उन्होंने प्राचार्य को विभिन्न समस्याओं से अवगत कराया। जिस पर उन्होंने मंगलवार से चारों यूनिट के चिकित्सक नियुक्त करने के आदेश जारी किए तथा शेष सुविधाएं भी मंगलवार से शुरु करने का आश्वासन दिया। प्रतिनिधि मंडल में पार्षद आनन्द सिंह सोढ़ा, रमजान कच्छावा, दुर्गादास, शिवशंकर बिस्सा, वसीम फिरोज अब्बासी, मनोज मेघवाल, राजू पारीक, मनोज किराडू आदि मौजूद थे।