बीकानेर में बढ़ता जा रहा महिला अत्याचार, आंकड़े देखकर चौंक जाएंगे आप

155

डीएनआर रिपोर्टर. बीकानेर

पिछले कुछ सालों से महिला उत्पीडऩ और अत्याचार के साथ ही दुष्कर्म जैसी घटनाओं ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सरकारी स्तर पर कई दावे किए जा रहे हैं तो खुद पुलिस महकमा भी महिला सुरक्षा को लेकर काम करते हुए नजर-सा आ रहा है और हाल ही में एक सप्ताह पहले बीकानेर पुलिस ने इसके लिए बाकायदा एक मोबाइल एप भी बनाया है जिसके मार्फत मुश्किल की घड़ी में मदद की गुहार लगाई जा सकती है।
पुलिस का यह अभय एप महिलाओं के लिए बड़ा कारगर हो सकता है। हालांकि यह अ‘छी पहल है लेकिन पिछले सालों में बीकानेर जिले सहित पूरे संभाग में महिलाओं के खिलाफ उत्पीडऩ और अत्याचार के मामलों में काफी वृद्धि देखने को मिली है। लेकिन जिस तरह से देश में लगातार महिलाओं के साथ उत्पीडऩ, दहेज प्रताडऩा और दुष्कर्म जैसी घटनाएं हो रही है. उससे तो कुछ और ही सामने आ रहा है। दुष्कर्म की घटना होने के बाद कुछ दिन विरोध प्रदर्शन होता है और कैंडल मार्च निकाले जाते हैं लेेकिन फिर से लोग भूल जाते हैं और फिर कोई घटना होने पर वहीं विरोध का तरीका। लेकिन सामाजिक जागरूकता की कमी इस तरह के बढ़ते अपराधों के लिए बड़ा कारण कही जा सकती है।

परिवाद के बजाय एफआईआर है कारण

हालांकि बढ़ते आंकड़ों के ग्राफ को लेकर पुलिस का कहना है कि अब महिलाओं के लिए आई शिकायत को सीधे एफआईआर करने से यह आकंड़ा बढ़ा है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि महिला सुरक्षा के मामले को गंभीरता से देखते हुए महिलाओं के खिलाफ अपराध की शिकायतों पर परिवाद की सीधा एफआईआर दर्ज करने से यह संख्या बढ़ी है।

बीकानेर सहित पूरे संभाग में बढे अपराध

बीकानेर संभाग भी महिला अत्याचार के अपराधों के बढ़ते आकंड़ों से अछूता नहीं है। पिछले & साल की तो बीकानेर संभाग में दहेज, हत्या, दुष्कर्म और महिला उत्पीडऩ के मामलों में लगातार वृद्धि देखने को मिल रही है। बीकानेर के साथ ही हनुमानगढ़, गंगानगर, चूरु जिले में कमोबेश ऐसे ही हालात है। साल 2017 में बीकानेर संभाग में कुल 44 दहेज हत्या के प्रकरण दर्ज हुए। वहीं, साल 2018 में && और 2019 में नवंबर महीने तक कुल 55 प्रकरण दर्ज हुए हैं। इसके साथ ही पूरी रेंज में दुष्कर्म के मामलों में 2017 में कुल 411, साल 2018 में 59& और 2019 में नवंबर महीने तक 779 प्रकरण सामने आए हैं। महिला उत्पीडऩ के मामले में भी साल 2017 में &016, साल 2018 में &44& और साल 2019 में नवंबर माह तक कुल 5054 प्रकरण संभाग के विभिन्न थानों में दर्ज किए जा चुके हैं।

दहेज सम्बन्धी मामला

वर्ष 2017 2018 2019
बीकानेर 20 11 10
श्रीगंगानगर 11 07 13
हनुमानगढ़ 07 04 19
चूरू 06 11 13
कुल 44 33 55

दुष्कर्म मामले

वर्ष 2017 2018 2019
बीकानेर 101 130 211
श्रीगंगानगर 128 179 240
हनुमानगढ़ 88 149 280
चूरू 94 135 148
कुल 411 593 779

महिला उत्पीडऩ

बीकानेर 653 644 1157
श्रीगंगानगर 1039 1164 1679
हनुमानगढ़ 721 853 1277
चूरू 630 782 901
कुल 3016 3447 5054

अन्य मामले बढ़े

महिला अत्याचार के अलावा अन्य मामलों में भी वृद्धि हुई है, लेकिन महिला अत्याचार के मामलों में परिवाद के बजाय सीधे एफआईआर दर्ज करना एक बढ़ते आंकड़ों का बड़ा कारण है।
– पवन कुमार मीणा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक