आबादी के बीच में 15 सालों से गैर आबाद पुरानी जेल

140

डीएनआर रिपोर्टर. बीकानेर

एक तरफ नगर विकास न्यास आबादी क्षेत्र में भूखंडों की नीलामी कर राजस्व बढ़ाने का प्रयास कर रहा है, वहीं दूसरी ओर करीब पन्द्रह साल से पुरानी जेल की सोलह बीघा जमीन को विक्रय करने की योजना सिरे नहीं चढ़ पाई है, जबकि इस भूमि पर सर्किल व सड़कें आदि पर करोड़ों रुपए खर्च हो चुके हैं। अब लम्बे समय से इस मामले में न्यास प्रशासन ने चुप्पी साध रखी है। वहीं राÓय सरकार भी 16 बीघा बेशकीमती जमीन को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रही है।
सोलह बीघा भूमि के विक्रय से नगर विकास न्यास को अरबों रुपए मिल सकते हैं। पूर्व में इस भूमि के विक्रय का पूरा तकमीना भी तैयार किया गया था। इसमें किस प्रकार से भूमि का विक्रय करना है, विकास करना है सहित अन्य बिंदुओं की विस्तृत रिपोर्ट भी तैयार कर सरकार को भेजी गई थी लेकिन हरी झंडी नहीं मिलने के कारण मामला ठंडे बस्ते में चला गया। वर्तमान सरकार के कार्यकाल को एक वर्ष हो चुका है लेकिन इसको लेकर अब तक कोई हलचल शुरू नहीं हो पाई है।

आमदनी नहीं, केवल खर्चा

केन्द्रीय कारागृह के बीछवाल क्षेत्र में स्थानांतरित होने के बाद पुरानी जेल के क्षतिग्रस्त भवन को गिराकर शॉपिंग मॉल के साथ आवासीय क्षेत्र के रूप में विकसित करने की पूर्व में योजना बनाई गई थी। इसके तहत नगर विकास न्यास को भूमि विक्रय करनी थी लेकिन विक्रय की प्रक्रिया सिरे नहीं चढ़ पाई। न्यास इस पर अब तक करोड़ों रुपए खर्च कर चुका है।