मकान के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वालों पर कार्रवाई की तैयारी

29

15 दिनों में मकान नहीं बना तो होगी वसूली/ कानूनी कार्रवाई
अजय सिंह पंवार.बीकानेर
केन्द्र सरकार की प्रधानमंत्री आवास योजना के डिफाल्टरों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज ने इसको गंभीरता से लेते हुए बिना आवास बनाए उक्त योजना के अन्तर्गत राशि उठाने वाले लोगों को 15 दिनों में आवास निर्माण पूर्ण कर जीओ टेंगिग के आदेश दिए है।
प्रधानमंत्री आवास योजना में बिना मकान बनाए योजना की किश्त उठाने वाले डिफाल्टरों को लेकर संबंधित ग्राम पंचायतों के ग्राम विकास अधिकारियों को विभाग ने डिफाल्टरों के यहां आवास बनाने के समय-समय पर आदेश भी किए। इसके बावजूद ग्राम विकास अधिकारियों ने इसको गंभीरता से नहीं लिया। जिसके कारण अकेले बीकानेर जिले में सवा करोड़ से भी अधिक राशि डिफाल्टरों में फंसकर रह गई थी। किंतु इस बार ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज ने पीएम आवास योजना में डिफाल्टर रहने वाली सभी पंचायत समितियों को समाचार पत्रों में सूची प्रकाशित करते हुए चेतावनी देने के निर्देश दिए है।
इसको लेकर बुधवार को खाजूवाला पंचायत समिति की ओर से जारी की गई सरकारी विज्ञप्ति में स्पष्ट रूप से डिफाल्टर से संबंधित ग्राम पंचायतों व उनके ग्राम विकास अधिकारियों को स्पष्ट रूप से आदेश दिया है कि प्रधानमंत्री आवास योजना में जिन लोगों ने किश्त ले ली है और मकान अभी तक शुरू नहीं किया है। उनके यहां 15 दिनों में पीएम आवास निर्माण कार्य पूर्ण कर जीओ टेंगिंग सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है। स्पष्ट रूप से कहा गया है कि यदि 15 दिनों में डिफाल्टरों के यहां प्रधानमंत्री आवास नहीं बना तो उनसे दी गई किश्त वसूली जाएंगी/ अन्यथा संबंधित के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएंगी।
डीएनआर ने किया था उजागर
यूं तो बीकानेर जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में बिना मकान बनाए राशि उठाने का सिलसिला इस योजना के शुरू के साथ चल रहा है। किंतु दैनिक नेशनल राजस्थान ने 6 मार्च के संस्करण में ‘389 लोगों ने बिना मकान बनाए डकारे 1.17 करोड़ रुपए’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर पीएम आवास योजना में हो रहे घोटाले को उजागर किया था। समाचार प्रकाशित होने के बाद हरकत में आए ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज ने डिफाल्टरों को मकान बनाने के लिए विवश करने तथा उनसे किश्त वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। जिसके चलते कई बार संबंधित ग्राम पंचायतों के ग्राम विकास अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किए गए।
बीकानेर में इतने डिफाल्टर
वर्ष इतने डिफाल्टर
वर्ष 2016-17 96
वर्ष 2017-18 221
वर्ष 2018-19 72