तो क्या…..पिघल गई डूडी और गोविन्द के बीच की सियासी बर्फ!

93

बीकानेर। लोकसभा चुनावों को लेकर कांग्रेस में अंदरखाने में चल रही गुटबाजी को लेकर हर दिन एक नया दृश्य देखने को मिलता है। जिसके बाद कार्यकर्ताओं की सांसे कभी ऊपर हो जाती है तो कभी वापस नीचे। लेकिन कार्यकर्ताओं की बढ़ती इस धड़कन का कारण भी इनके नेता ही है। दरअसल टिकट वितरण पहले और बाद में हुई कांग्रेस में गुटबाजी और नाराजगी के बाद मुख्यमंत्री के बीकानेर दौरे के बाद एकबारगी अंसतोष जताने का सिलसिला पूरी तरह से गायब हो गया है। यही कारण है कि लग रहा है कि टिकट वितरण को लेकर जिले के कांग्रेस के दो धड़ों में शायद बर्फ पिघल गई है। चार दिन पहले कांग्रेस प्रत्याशी के मुख्य चुनाव कार्यालय उद्घाटन में भी दोनों ही नेता एक सोफे पर बैठे नजर आए थे। वहीं शनिवार को खाजूवाला में हुए कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में फिर से पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी और विधायक गोविन्द मेघवाल एक मंच पर दिखाई दिए। हालांकि नोखा में हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में गोविन्द नहीं दिखाए दिए थे उसके बाद फिर से चर्चाओं के दौर शुरू हुए। लेकिन शनिवार को दिखाई दिए दृश्य के बाद कहीं ना कहीं कांग्रेसियों को लग रहा है कि कभी कांग्रेस का गढ़ रही बीकानेर सीट नेताओं की आपसी बर्फ पिघलने की दशा में कोई गुल खिला सकती है।