गांधीनगर में शाह के मुकाबले कांग्रेस के विधायक

गांधीनगर, गांधीनगर लोकसभा सीट से एक समय पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टी एन शेषन और अभिनेता राजेश खन्ना जैसी हस्तियों को अपना उम्मीदवार बना चुकी कांग्रेस ने इस बार दो बार के विधायक सी जे चावड़ा को टिकट दिया है जिनका मुकाबला भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से होगा।
राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि यूं तो यह सीट 1990 के दशक से भाजपा का गढ़ रही है लेकिन कोई मजबूत उम्मीदवार शाह को कड़ी टक्कर भी दे सकता है।
गांधीनगर सीट से अब तक भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी सांसद रहे हैं और वह छह बार से लोकसभा में इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
कांग्रेस इस सीट से आडवाणी और अटल बिहारी वाजपेई जैसे दिग्गजों के खिलाफ शेषन, राजेश खन्ना और प्रदेश के पूर्व डीजीपी पी के दत्ता जैसी हस्तियों को मैदान में उतार चुकी है।
गुजरात की 26 लोकसभा सीटों में गांधीनगर में सर्वाधिक मतदाता हैं जिनकी संख्या 19.21 लाख है। इसमें गांधीनगर उत्तर, कलोल, साणंद, घाटलोदिया, वेजलपुर, नारनपुरा और साबरमती समेत सात विधानसभा क्षेत्र हैं।
2017 के विधानसभा चुनावों में गांधीनगर उत्तर और कलोल सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी, बाकी पांच सीटें कांग्रेस के खाते में गई थीं।
गांधीनगर उत्तर से विधायक चावड़ा ठाकोर समुदाय से आते हैं। यह वर्ग कांग्रेस का मजबूत समर्थक रहा है।
उन्होंने कहा, इसे अमित शाह और सी जे चावड़ा के बीच लड़ाई मत कहिए। यह कांग्रेस और भाजपा के बीच की लड़ाई है। अगर वह भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तो उन्होंने गुजरात की तथाकथित सुरक्षित सीट क्यों चुनी। वह किसी चुनौतीपूर्ण सीट से लड़ सकते थे।
शाह ने पहले कहा था कि गांधीनगर से लडऩा गौरव की बात है जहां से पहले वाजपेई और आडवाणी लड़ चुके हैं।