बीकानेर में अवैध आरा मशीनों की होगी धरपकड़ – जिला कलक्टर ने दिए आदेश

62

डीएनआर रिपोर्टर. बीकानेर

जिले में जितने भी ईंट-भट्टे तथा जिप्सम खनन क्षेत्र में जो फैक्ट्रियां है, उनसे प्रदूषण न फैले इसके लिए वन विभाग समय-समय पर निरीक्षण करेगा। जिला कलक्टर ने इस आशय के आदेश गुरुवार को वनविभाग को दिए है। इसके साथ ही लाइसेंसशुदा आरा मशीन के मालिक पेड़ों की अवैध कटाई ना करें इसका भी ध्यान रखा रखा जाएगा। गुरुवार को वे अवैध आरा मशीन नियंत्रण को लेकर गठित जिला स्तरीय समिति, पर्यावरण समिति तथा राष्ट्रीय पक्षी मोर के शिकार की रोकथाम एवं मोरों के संरक्षण के लिए गठित जिला स्तरीय समिति की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में बताया गया कि बीकानेर में 39 लाइसेंस शुदा आरा मशीनें हैं जिनमें से 15 आरा मशीनों का लाइसेंस नवीनीकरण कर दिया गया है। उन्होंने निर्देश दिए कि जिन स्थानों पर आरा मशीन का उपयोग होता है उस स्थान का भी समय-समय पर निरीक्षण किया जाए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यहां आई सभी लकडिय़ां वैध रूप से काटकर लाई गई है। यदि विभाग को अवैध आरा मशीनें संचालन की जानकारी मिले तो इन मशीनों के जब्ती की कार्यवाही की जाए। जिला कलक्टर ने कहा कि राष्ट्रीय पक्षी मोर का शिकार ना हो इसके लिए संरक्षण समिति नियमित रूप से भ्रमण करें। बैठक में मोखराम धारणिया ने कहा कि समिति को एम्बुलेंस प्राप्त हुई है इसमें अगर वाहन चालक वन विभाग की तरफ से उपलब्ध हो जाए तो इस एंबुलेंस के माध्यम से दूर.दराज में बीमार होने वाले जानवर और पक्षियों का इलाज के लिए निर्धारित स्थान तक समय पर लाया जा सकता है। इस पर जिला कलक्टर ने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए।