बीकानेर : विद्यार्थियों को मिलने वाली डिग्री खराब ना हो इसके लिए महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय ने शुरू की खास पहल

86

बीकानेर. जिले के महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय की एकेडमिक कौंसिल की बैठक शनिवार को हुई. कुलपति प्रोफेसर भागीरथ बिजारणिया के अध्यक्षता में आयोजित एकेडमिक कौंसिल की बैठक में विश्वविद्यालय के नए 36 पाठ्यक्रमों का अनुमोदन किया गया. बता दें कि बैठक में इस बात का निर्णय किया गया कि विश्वविद्यालय के रिसर्च स्कॉलर को अब दो लाख राशि की वित्तीय सहायता भी दी जाएगी. बैठक में इस बात को लेकर भी निर्णय किया गया कि विश्वविद्यालय पीएचडी के साथ ही मास्टर ऑफ साइंस और मास्टर ऑफ लिटरेचर की उपाधि देगा. उच्च शिक्षा के क्षेत्र में यह दोनों डिग्रियां सर्वोच्च स्थान रखती है और देश के चुनिंदा विश्वविद्यालय में ही यह उपाधि दी जाती है. कुलपति प्रोफेसर भागीरथ बिजारणिया ने बताया कि आने वाली 7 अगस्त को विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह आयोजित होगा और दीक्षांत समारोह में पहली बार प्रदेश के विश्वविद्यालयों में नवाचार करते हुए बीकानेर का महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय ऐसी डिग्रियां विद्यार्थियों को प्रदान करेगा जो पूरी तरह से वाटरप्रूफ फायरप्रूफ होगी. बैठक में एकेडमिक काउंसिल के राज्य सरकार के प्रतिनिधि राज्यपाल के प्रतिनिधि और कुलपति के प्रतिनिधि के साथ ही अन्य सदस्य भी मौजूद रहे.