ये है असल एक देश-एक पुस्तक वाला निर्णय

अनुराग हर्ष. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने कक्षा नौ से बारह तक के विद्यार्थियों के लिए एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद्) की पुस्तकें ही पढ़ाने का निर्णय किया है। यह सामान्य रूप से पाठ्यपुस्तकें बदलने वाला निर्णय नहीं है बल्कि एक ऐतिहासिक व क्रांतिकारी निर्णय है। आने वाले वर्षों में इस निर्णय के सकारात्मक परिणाम नजर आएंगे।...

आखिरकार कस ही गया मसूद अजहर पर शिकंजा

नई दिल्ली, लंबे इंतजार के बाद आखिरकार चीन ने मसूद अजहर के सिर से अपना हाथ हटा लिया। अन्तरराष्ट्रीय समुदाय और विशेष रूप से भारत पिछले एक दशक से मसूद अजहर को अन्तरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करवाने का प्रयास कर रहा था। लेकिन चीन हर बार उसकी ढाल बन जाता था और पर्याप्त सुबूत नहीं होने तथा मौजूदा तथ्यों...

पार्टियों की मार्केटिंग में, ग्राहक जैसा हो गया वोटर

अनुराग हर्ष. 'लोकसभा चुनाव का शोर थम गया है।' वैसे शोर ज्यादा था भी नहीं। चुनाव आयोग की सख्ती कहो या फिर सख्ती के बहाने नेताओं की ओर से धन बचाने की कवायद मान लो। शोर कम हो गया। कारण कोई भी रहा हो, लोकसभा चुनाव में विधानसभा चुनाव जितना हल्ला अब नहीं होता। न सिर्फ बीकानेर या नागौर शहर...

मतदान में आगे रहा है राजस्थान का सबसे उपजाऊ इलाका श्रीगंगानगर

डीएनआर ब्यूरो. जयपुर राजस्थान का धान का कटोरा कहे जाने वाले गंगानगर के मतदाता मतदान में भी आगे रहे हैं। चाहे वह पिछला लोकसभा चुनाव रहा हो या हालिया विधानसभा चुनाव, यहां के मतदाताओं ने खुलकर मतदान किया। 2014 के पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य में सबसे अधिक 73.17 प्रतिशत मतदान इसी सीट के लिए हुआ था। गंगानगर लोकसभा क्षेत्र...

..भेडिय़ा कौन ?

लूणकरनसर के नेताजी ने अपनी ही पार्टी के प्रत्याशी के समर्थन में आयोजित सभा में अपने संबोधन में भेड़ की खाल में भेडिय़ों से बचने की द्घिअर्थी संबोधन के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा छेड़ दी है। हालांकि समझने वाले तुरंत ही समझ गए और इसका असर यह रहा कि सभा के खत्म होने के बाद...

10 अप्रैल : अपनी पहली और अंतिम यात्रा पर दस अप्रैल को निकला था टाइटैनिक

नई दिल्ली, 10 अप्रैल (भाषा) टाइटैनिक जहाज का 10 अप्रैल से गहरा नाता है। यह बदकिस्मत जहाज 10 अप्रैल के दिन ही ब्रिटेन के साउथेम्पटन बंदरगाह से अपनी पहली और अंतिम यात्रा पर रवाना हुआ था। वैसे टाइटैनिक जहाज का जिक्र आते ही इससे जुड़ी दुर्घटना के तमाम मंजर आंखों के सामने से गुजर जाते हैं।...

गौरव बिस्सा : ‘पुरानी बातें छोडिय़े’

जरा सोचिये कि आप कहीं पर गिर गये। ऐसे में आप क्या करते हैं? क्या आप उसी स्थान पर बैठकर कई दिन तक रोते रहते हैं कि आप क्यों गिर गये? शायद नहीं। आप तो तुरंत उठते हैं, धूल साफ करते हैं और उस स्थान को शीघ्रता से छोड़कर अपने कार्य में लग...

नहीं दी जा रही शिक्षा व्यवस्था को प्राथमिकता

लगभग 30 वर्ष पहले भोपाल से 20 किलोमीटर दूरी पर स्थित क्षेत्रीय शिक्षा महाविद्यालय के प्रशिक्षु अध्यापक एक गांव की हालत समझने के लिए वहां गए। वे मूलत: यह जानने के लिए वहां गए थे कि गांव में किन मूलभूत सुधारों की त्वरित आवश्यकता है और वहां चल रही विभिन्न योजनाओं को कैसे गति दी जा सकती...

गडकरी का आत्मविश्वास

केंद्रीय सड़क एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी भारतीय जनता पार्टी के उन दो नेताओं में से एक हैं जिन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के समर्थन में अपनी आवाज बुलंद की। दूसरे नेता गृहमंत्री राजनाथ सिंह हैं। सुषमा पर भाजपा के समर्थक हमलावर हो गए थे क्योंकि पासपोर्ट का आवेदन करने वाले एक हिंदू-मुस्लिम...

देश सेक्युलरशिक्षा की ओर

पिछले कुछ सालों में देश में अल्पसंख्यक समुदायों के खिलाफ हिंसा की घटनाओं में तेजी से वृद्धि हुई है। शायद ही ऐसा कोई दिन गुजरता हो, जब देश के किसी हिस्से से अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिंसा और हत्या की खबर न आती हो। कभी गोरक्षा के नाम पर तो कभी लव जेहाद के...